फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है? False Pregnancy In Hindi

फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है? False Pregnancy In Hindi – अक्सर महिलाये गर्भवस्था के दौरान इस भर्म में रहती है की वह गर्भवती है | परन्तु ऐसा होता नहीं है | आइये जानते है फॉल्स गर्भवस्था क्या होता है?

फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है? जानने के लिए पूरा पोस्ट पढ़िए | जैसा कि आप जानते है हर महिलाये को माँ बनने की चाहत होती है | शादी-शुदा औरतें हर हाल में गर्भवती होना चाहती है लेकिन वो जल्दीबाजी करने के वजह से बन नहीं पाती है | आज के समय में हर महिलाये को False Pregnancy के बारे में जानकारी होना चाहिए |

false-pregnancy-hindi
false-pregnancy

फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है? What Is False Pregnancy In Hindi

फॉल्स प्रेगनेंसी जिस महिलाये को होती है उसके लिए बहुत बड़ी समस्या है | False Pregnancy को स्यूडोसाइसिस भी कहा जाता है | जिस महिला को Falsepregnancy होती है उसे बिना गर्भवस्था के गर्भवती महिला वाला सभी लक्षण दिखाई देता है | उन्हें महसूस होता है की वह एक गर्भवती औरत है | (इसे भी पढ़ें How to maintain a pregnant woman गर्भवती महिला के देखरेख कैसे करें)

शरीर में थकान, स्तन में कसावट, पीरियड न आना इत्यादि गर्भवती औरते जैसा लक्षण दिखाई देने के बाद भी महिलाये गर्भवती नहीं होती है इस स्थिति को फॉल्स प्रेगनेंसी कहते है | ये परेशानी बहुत कम महिलाओं में देखने को मिलता है |

False Pregnancy का कारण

फॉल्स प्रेगनेंसी किसी भी महिलाओं में हो सकती है | फॉल्स गर्भवस्था होने का कोई ठोस कारण नहीं है | अलग-अलग डॉक्टर का अलग-अलग मत होता है | लेकिन मुख्य कारण बहुत जल्दी पता चल जाता है | (इसे भी पढ़ें)

जो महिलाये जल्दी माँ बनना चाहती है वैसी महिलाओं में फॉल्स प्रेगनेंसी की समस्या होने की चांस बढ़ जाती है | अगर औरते के आसपास कोई सहेली गर्भवती होती है तो माँ बनने की इच्छा रखने वाली महिलाये अपने आप को गर्भवती समझती है |

जब महिलाओं में पिट्यूरी ग्लैंड और शरीर में हार्मोन्स बढ़ जाती है तो इस तरह के समस्या होना शुरू हो जाता है | कुछ महिलाये बच्चे की चाह में इतना खो जाती है की उनमे प्रेगनेंसी का लक्षण दिखने लगता है |

गलत सोंच और मानसिक तनाव महिला को  False Pregnancy के परेशानी में दाल देता है | वो गर्भवती के सभी लक्षण महसूस करती है | लेकिन डॉक्टर के पास जाने पर प्रेगनेंसी का सही सबूत नहीं मिलता है | (इसे भी पढ़ें असम लोक सेवा आयोग (APSC) के तहत विभिन्न पदों पर भर्ती 2021)

फॉल्स गर्भवस्था के लक्षण – Falls Pregnancy Symptoms

जब महिलाये False Pregnancy की समस्या से ग्रस्त होती है तो निम्नलिखित लक्षणों को महसूस करती है |

मितली होना

थकान

भार बढ़ना

पीरियड बंद होना

पैर में ऐंठन

कोमल स्तन

बढे हुए स्तन

भूख बढ़ना

बार-बार पेशाब लगना

पेट में किसी प्रकार का महसूस होना

पेट का फूलना

ब्रेस्ट के साइज़ में बदलाव होना (इसे भी पढ़ें Pubg के मालिक कौन है? पब्जी का Release तिथि और भारत में BAN होने का कारण !)

झूठी प्रेगनेंसी की जाँच कैसे करें? – How To Check For False Pregnancy?

अगर आप गर्भवस्था की जाँच करना चाहती है तो यूरिन टेस्ट करें | सबसे पहले मेडिकल Store से यूरिन Hcg प्रेगनेंसी टेस्ट किट ख़रीदे | उस किट पर इस्तेमाल करने का तरीका भी लिखा होता है | इससे साफ पता चल जायेगा की आप गर्भवती है या नहीं | अगर आप प्रेग्नेंट नहीं है तो नेगेटिव दिखाई देगा |

अगर आपके नजदीक गर्भवस्था से संबंधित देखने वाला डॉक्टर है तो ब्लड टेस्ट कराने से प्रेगनेंसी के बारे में जानकारी मिल जायेगा | अगर आप प्रेग्नेंट नहीं है तो नेगेटिव दिखाई देगा | (इसे भी पढ़ें प्रेमिका को कैसे खुश रखें? Premika Ko Khush Kaise Kare)

अगर अप तीन-चार महीनो से परेशान है तो तुरंत अल्ट्रासाउंड कराये | अल्ट्रासाउंड में साफ-साफ पता चल जाता है की महिला कितने दिनों से गर्भवती है |  फॉल्स प्रेगनेंसी चेक करने का यह सही तरीका है |

फॉल्स प्रेगनेंसी का उपचार कैसे करें? How To Treat Falls Pregnancy?

जब महिला अपने आप को गर्भवती समझती है तो उपचार करना बहुत जरूरती होता है | प्रेगनेंसी की जाँच करने के बाद उन्हें तुरंत  उपचार करवाना चाहिए | (इसे भी पढ़ें लड़की को कैसे लड़के अच्छे लगते है? सरल टिप्स हिंदी में !)

मैडिटेशन: जब महिला गर्भवती होने का झूठी दावा करती है तब उन्हें मैडिटेशन करने की जरुरत होती है | मैडिटेशन करने से उनके मन और दिमाग में से गलत भावना निकल जाता है |

मनोविशेषज्ञ: कुछ स्थितियों में महिला को मनोविशेषज्ञ से दिखाना चाहिए | शोध में देखा गया है की फॉल्स प्रेगनेंसी का कारण मनोवैज्ञानिक भी होता है |

ट्यूमर: अगर आपमें ट्यूमर की समस्या है तो प्रेगनेंसी का लक्षण दिखाई दे सकता है | इसके लिए तुरंत डॉक्टर से जाँच करवानी चाहिए |

जीवन शैली में बदलाव: कुछ स्थितिओ में प्रजनन सेहत की समस्या होती है तो हर दिन के जीवन शैली में बदलाव करना जरुरी होता है | इसके लिए डॉक्टर के सलाह पर दवा इस्तेमाल कर सकती है | (इसे भी पढ़ें भरपूर नींद नहीं लेने के कारण, लक्षण और घरेलु उपचार (नुस्खे))

Conclision

इस लेख में फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है? False Pregnancy In Hindi के बारे में जानकारी शेयर किया गया है | अगर आप घर पर प्रेगनेंसी चेक करना चाहती है तो यूरिन Hcg प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल कर सकती है | इस तरह के समस्या होने पर महिला को कभी भी भर्म में नहीं पड़ना चाहिए | अब आप समझ गये होने की फॉल्स गर्भवस्था क्या होता है?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top