Indian National Health Program

Indian National Health Program Details भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम

Indian National Health Program Details भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम , इस पोस्ट में भरत के सभी प्रोग्राम के बारे में जानकारी मिलेगा |

भारत सरकार द्वारा अनेक कार्यक्रम चलाये जाते है | रोग पर काबू पाने के लिए अनेक कार्यक्रम चलाये जाते है वे नियंत्रण कार्यक्रम के तहत आते है | तथा जिस रोग को जड़ मूल से ख़तम करने की बात आती है वे उन्मूलन कार्यक्रमन के तहत आते है |

भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम Indian National Health Program के बारे में जानकारी

हमारे सरकार द्वारा भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम (Indian National Health Program )  चलाये जाते है जो इस प्रकार है |

  • राष्ट्रिय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (National Rural Health Mission )

NRHM – भारत वर्ष में ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए जो ढाँचा एवं कार्यपद्धति थी उससे भारत के स्वास्थ्य समस्याओं का निदान ब्व्ह्तर ढंग से जितना होना चाहिए नहीं हो पा रहा था | भारत सरकार ने वर्ष 2005 ( अप्रैल ) में राष्ट्रिय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन नामक एक नए कार्यक्रम की शुरुआत की | इसका मुख्य लक्ष्य ग्रामीणों को बुनियादी स्वास्थ्य सेवाएं (Basic health service ) सुविधापूर्वक उपलबद्ध कराना |

  • राष्ट्रिय वेक्टर बोर्न डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम (National vector Borne Disease control programme

NVBDCP – एन.वी.बी.डी.सी.पी  इस कार्यक्रम के अंतर्गत वेक्टर से उत्पन्न रोग जैसे मलेरिया , डेंगू , लिम्फटिक फैलेरिएसिस , कालाजार , जैपनीज एन्सेफेलैतिस व चिकनगुनिया आते है | इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य इन रोगों की रोकथाम तथा नियंत्रण करना दोनों है |

भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम Indian National Health Program Details

  • राष्ट्रिय बधिरता निवारण व नियंत्रण कार्यक्रम ( National programme for prevention and control of Deafness )

जैसा की हम जानते है भारत में WHO अनुमानों के अनुसार लगभग 63 मिलियन लोग बहरेपन से पीड़ित है | nsso के अनुसार वर्तमान में एक लाख आबादी में 291 लोग गंभीर रूप से बहरेपन से पीड़ित है | बहरेपन के कारण पीड़ित व्यक्ति को गंभीर शारीरिक और आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ता है अधिकतर लोग एक कान के बहरेपन व कम बहरेपन से पीड़ित है | इसी को देखते हुए National programme for prevention and control of Deafness की शुरुआत की गई |

  • विद्यालय स्वास्थ्य कार्यक्रम ( school health programme )

स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम राष्ट्रिय स्वास्थ्य के तहत स्कूल स्वास्थ्य सेवाओं के लिए एक कार्यक्रम है | यह कार्यक्रम विशेष रूप से स्कूली बच्चो पर केन्द्रित है जिसका मुख्य लक्ष्य बच्चो के शरीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का सुधार करना है | इसके अलावा उनकी व्यक्तिगत स्वच्छता , पोषण , सुरक्षित पिने का पानी , योग की सुबिधा , पर्यावरण स्वच्छता आदि इस कार्यक्रम के अंतर्गत आते है | साथ ही किशोर – किशोरियों को समय – समय पर उचित परामर्श सेवाए प्रदान करना भी इस कार्यक्रम का मुख्य अंग है |

  • प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य कार्यक्रम ( Reproductive and child health programme )

RCH – परिवार कल्याण कार्यक्रम के विभिन्न घटक – परिवार कल्याण , मातृ एवं शिशु कल्याण ( Maternal and child welfare ) तथा शिशु स्वास्थ्य एवं सुरक्षित मातृत्व ( child helth and safe motherhood ) है | इनके लिए सरकार ने आर.सी.एच कार्यक्रम विकसित किया है | ये सभी घटक R.C.H कार्यक्रम के अंतर्गत किये जाते है | इस कार्यक्रम के तहत निम्न लक्ष्य समूहों को स्वास्थ्य सेवाएँ प्रदान की जाती है |

  • राष्ट्रिय परिवार कल्याण कार्यक्रम ( National family welfare programme )

NFWP –  आबादी में वृद्धि , भारत की ही नही अपितु विश्वभर के लिए एक जटिल समस्या के लिए उभर रही है | इसका प्रभाव जीवन के हर स्तर पर पड़ रहा है क्यूंकि आबादी ज्यामितिक रीती से बढती है | लेकिन खाघ सामग्री अंक गणितीय तरीके से बढती है | फलस्वरूप आबादी के अनुरूप में खाघ सामग्रियों का उत्पादन नहीं बढ़ पाटा है | जिससे भुखमरी के साथ – साथ कुपोषण की कई समस्याएँ विश्व स्तर पर उत्पन्न हो रही है |

भारत विश्व का पहला देश है जिसने , इन समस्यायों से निजात पाने के लिए राष्ट्रिय परिवार कल्याण कार्यक्रम वर्ष 1952 में ( प्रथम पंचवर्षीय योजना के समय से ही ) प्रारंभ किया |

भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम Indian National Health Program Details

  • सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम ( Universal immunization programme )

सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं , शिशुओं तथा बच्चो के टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जा रहा है | इसमे टीकाकरण टीकों को लगाकर बच्चो व गर्भवती महिलाओं का अनेक रोग से बचाव किया जाता है | सभी सरकारी अस्पतालों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों में ये टिका नि : शुल्क उपलबद्ध कराये जाते है | तिको द्वारा उपलबद्ध कराई जाने वाली सुरक्षा की अवधि विभिन्न तिको के मामले में भिन्न – भिन्न होती है | टीकाकरण द्वारा उपल्बध्द कराई गई प्रतीक्षा के पुन : स्थापित करने के लिए कुछ टीकों के मामले में बूस्टर खुराक दी जाती है |

  • गैर संचरणीय रोगों की रोकथाम और नियंत्रण ( prevention & control of non communicable Diseases )

इस कार्यक्रम के अंतर्गत गैर संचारी विमारियों की रोकथाम और नियंत्रण के लिए राष्ट्रिय स्तर पर विभिन्न कार्य किये जाते है , विश्व रूप से महुमेह , कार्डियोवैस्क्यूलर डिसीजन और स्ट्रोक |

  • राष्ट्रिय एड्स नियंत्रण कार्यक्रम ( National AISD  control programme )

इस कार्यकरण की शुरुआत सरकार ने की थी क्यूंकि

संक्रमित सुइयों के प्रयोग से , संक्रमित रक्त या उत्पादकों को स्वास्थ्य व्यक्तियों में चढाने से |, संक्रमित साथी के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने से , संक्रमित माँ द्वारा उसके शिशु को होने से फैलने वाले बीमारी को रोकने के लिए एड्स कार्यक्रम की शुरुआत की गई |

गर्भवस्था के संकेत और लक्षण

  • राष्ट्रिय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम ( National Leprosy Eradication programme )

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य कुष्ठ रोग का उन्मूलन करना है | इसके अंतर्गत कई गतिविधिया भी शामिल की गई है |

  • संशोधित राष्ट्रिय टीबी नियंत्रण कार्यक्रम ( Revised national TB control programme )

जिस व्यक्ति को तिन सप्ताह से अधिक खांसी होती है उन्हें डॉक्टर से दिखाने को सलाह दी जाती है | इसके लिए कई प्रकार के जाँच भी कराया जाता है | टिका भी लगाया जाता है | वरना टीबी होने का चांस बना रहता है | इसे नियंत्रण रखने के लिए संशोधित राष्ट्रिय टीबी नियंत्रण कार्यक्रम चलाया गया |

  • राष्ट्रिय कैंसर नियंत्रण कार्यक्रम ( National cancer control programme )

कैंसर जन समुदाय को प्रभावित करनेवाला एक खतरनाक रोग है | कैंसर से पीड़ित लोगो की संख्या तेजी से बढ़ रही है | इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कैंसर नियंत्रण को एक राष्ट्रिय कार्यक्रम का प्रारूप प्रदान किया है |

  • राष्ट्रिय अंधापन नियंत्रण कार्यक्रम ( National Blindness control programms )

दृष्टिहीनता भारत वर्ष के सामाजिक और आर्थिक दृष्टिकोण से एक गंभीर जनस्वास्थ्य समस्या है , जिसकी वजह से भारत सरकार द्वारा इसे वर्ष 1976 में राष्ट्रिय नियंत्रण कार्यक्रम में सम्मलित किया गया |

  • राष्ट्रिय आयोडीन अल्प विकार नियन्त्रण कार्यक्रम ( National iodin Deficiency Disorder control programme )

आयोडीन की कमी से गलगंड रोग होता है | यह रोग भोजन में आयोडीन की कमी से होता है | यह रोग भारत के कुछ हिस्सों में , खासकर पहाड़ी क्षेत्रो में , हिमालय खंडो आदि में पाया जाता है | इसमे गल्ग्रंथी बढ़ जाती है | रोग बढ़ जाने पर घेंघा गुब्बारे की तरह फुला दिखाई पड़ता है , जिससे साँस लेने में मुस्किल होने लगती है | इस रोग को अंग्रेजी में Goitre कहा जाता है | यह रोग जन – मानस के लिए स्वास्थ्य समस्या का रूप लेकर उभरा है | भारत सरकार ने इसे राष्ट्रिय कार्यक्रम के रूप में अपनाया है |

भारतीय राष्ट्रिय स्वास्थ्य कार्यक्रम Indian National Health Program Details

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.