नवजात शिशु का वजन कैसे बढ़ाएं? Shishu Ka Vajan Badhan Eke Upay In Hindi

Last Updated on 1 year by websitehindi

छोटे बच्चों की चिंता माता-पिता तब करते है जब उनके बच्चे का वजन ग्रोथ चार्ट के अनुसार नहीं बढ़ता है | यह समस्या हर माँ-बाप को असमंजस की स्थिति बना देती है | इस पोस्ट में जानेंगे नवजात शिशु का वजन कैसे बढ़ाएं?

बच्चे का उम्र थोड़ी-बहुत कम या ज्यादा होने से परेशानी नहीं है | समस्या तब होती है जब बच्चे का वजन उसके आयु के अनुसार नहीं होता है | इस तरह की परेशानी तब समझ में आती है जब पड़ोस के बच्चे की वजन और स्वास्थ्य आपके बच्चे से अधिक बढियां होती है | इस समस्या का निवारण करने के लिए नवजात शिशु को मेडिसिन के अलांवा घरेलु ऊपर कर सकते है  |

नवजात-शिशु-का-वजन
नवजात-शिशु

नवजात शिशु का वजन कितना होना चाहिए?

छोटे बच्चे का वजन खान-पान और रहन सहन पर भी निर्भर करता है | जो निम्नलिखित है | (इसे भी पढ़ें फॉल्स प्रेगनेंसी क्या है? False Pregnancy In Hindi)

आयु लड़की (किलोग्राम) लड़का (किलोग्राम)
3 माह 5.0 5.3
6 माह 6.2 6.7
9 माह 6.9 7.4
1 वर्ष 7.8 8.4
2 वर्ष 9.6 10.1
3 वर्ष 11.2 11.8
4 वर्ष 12.9 13.5
5 वर्ष 14.5 14.8
6 वर्ष 16.0 16.3
7 वर्ष 17.6 18.0
8 वर्ष 19.4 19.7
9 वर्ष 21.3 21.5
10 वर्ष 23.6 23.7

 

 

बच्चों को सही वजन अच्छा क्यों माना जाता है?

बच्चों में सही वजन रहने पर यह देखा जाता है की उनका स्वास्थ्य कितना बेहतर होगा जो निम्नलिखित है | (इसे भी पढ़ें आंखों में जलन (Aankhon Mein Jalan) का ईलाज, कारण और लक्षण !)

  • जिन बच्चों में वजन अधिक कम होतें है उनके शरीरिक प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है |
  • वजन कम होने से बढ़ते विकास धीमा हो जाता है |
  • आयु के हिसाब से वजन नहीं रहने पर कुपोषण का संकेत मिलता है |
  • बच्चे दुबला – पतला और वजन काफी कम है तो बच्चों में अनेक प्रकार के बीमारियाँ हो सकती है |
  • सही समय पर ध्यान नहीं दिया जाये तो समस्या बढ़ते जायेगा और बच्चे की मृत्यु भी हो सकती है |

छोटे बच्चों का वजन कैसे बढ़ाएं? How To Gain Weight Of Young Children?

6 महीने से कम सभी नवजात शिशु को माँ का दूध प्रयाप्त होता है | माँ के दूध में वो सभी आहार मिल जाता है जिसका आवश्यकता बच्चों में होती है | माँ का दूध पिने से पेट की समस्याएं कम होती है | (इसे भी पढ़ें हिलते दांत का उपचार घरेलु उपचार व नुस्खे |)

डॉक्टरो द्वारा हमेशा सुनने को मिलता है की छ: महीने से छोटे नवजात शिशु को भरपूर मात्रा में माँ का दूध अनिवार्य होता है |

(1.) नवजात शिशु का वजन बढ़ाने के लिए घी दें |

जैसा की आप जानते है घी पौष्टिकता से भरपूर होता है | 9-10 महीने के बच्चे को शब्जी, रोटी, पराठा, दलिया के साथ दो चार बूंद घी देना सही होगा | बच्चें को घी की मात्रा बच्चे की आयु के अनुसार ही देना चाहिए | (इसे भी पढ़ें त्वचा पर होनेवाली एलर्जी के घरेलू उपाय – Skin Allergy Home Remedy In Hindi)

(2.) बच्चे को केले खाने दें |

6-7 महीने से ज्यादा उम्र के बच्चों को केले खिलाना चाहिए | बच्चों में विटामिन सी, विटामिन बी6, कार्बोहाईड्रेट, फाइबर और पोटेशियम की पूर्ति केले खिलने से हो सकता है | ठंड के मौसम को देखते हुए घर या सफ़र में केले का इस्तेमाल कर सकती है |

(3.) वजन बढ़ाने के लिए दही है उपयोगी

दही में प्रोटीन और उर्जा बच्चों के लिए अच्छा माना जाता है | दही खिलने से बच्चे का वजन बढ़ सकता है क्यूंकि दही में कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, विटामिन तथा अनेक पोषक तत्व मौजूद होतें है | इसीलिए बच्चों को थोडा-थोडा दही की मात्रा देना चाहिए | (इसे भी पढ़ें भारत डायनामिक्स लिमिटेड (BDL) के तहत स्नातक और तकनीशियन (डिप्लोमा) अपरेंटिस पदों पर भर्ती 2020)

 (4.) दालें खिलाकर वजन बढ़ाएं|

अगर आप बच्चों की मांसपेशियां मजबूत करना चाहते है तो दालें का सेवन करना बहुत उपयोगी है | क्यूंकि इसमें प्रोटीन आयरन, जिंक, मिनरल मौजूद होतें है | छोटे बच्चो के खाने में दालें शामिल जरुर करें |

(5.) ड्राई फ्रूट्स से वजन बढ़ाएं |

जैसा की आप जानते है ड्राई फ्रूट्स में एनर्जी भरपूर  मात्रा में पाई जाती है | वजन बढ़ाने के लिए बच्चों को ड्राई फ्रूट्स जरुर खिलाएं | (इसे भी पढ़ें जवान लड़कियों की डाइट कैसा होना चाहिए?)

(6.) फ्रूट जूस पिलाएं |

बच्चें को स्वास्थ्य रहने के लिए वजन के साथ – साथ विटामिन और मिनरल्स की आवश्यकता होती हैं | अगर आप   फ्रूट जूस देतें है तो वजन बढ़ने में मदद मिलेगा |

(7.) मक्खन से बच्चे का वजन बढ़ाएं |

बिना नमक डाले बच्चे को मक्खन देना सही होता है | मक्खन खिलाने से बच्चों में विटामिन ए, कोलेस्ट्राल और फैटी एसिड की पूर्ति होती हैं | इसीलिए छोटे बच्चों की डाइट (Diet) में मक्खन शामिल जरुर करें |

बच्चों की उम्र कम होने की कारण

भोजन में पोषक तत्वों की पूर्ति नहीं होने और वजन में कमी होने के अनेक कारण होतें है जो निम्नलिखित है | (इसे भी पढ़ें दाखिल खारिज (Dakhil Kharij) आवेदन स्थिति (Status) कैसे देखें?)

  • बच्चों में हार्मोन्स संबंधी समस्या होना |
  • पेट में कीड़ा होना |
  • खून से संबंधित बीमारी होना |

माता-पिता बच्चों के लिए क्या करें या क्या न करें |

  • बच्चे की भूख कब लगती है समझने की कोशिश करें |
  • ऐसी आहार देने से बचना चाहिए जिससे बच्चे को एलर्जी होता हो |
  • भावनात्मक संबंध को अच्छा करें |

Conclusion

वेबसाइटहिंदी.कॉम के इस पोस्ट में नवजात शिशु का वजन कैसे बढ़ाएं? (Shishu Ka Vajan Badhan Eke Upay In Hindi) के बारे में बताया गया है | अगर आप बच्चे का वजन बढ़ाना चाहते है तो पोस्ट में बताये अनुसार उपाय जरुर करें या नजदीकी डॉक्टर से परामर्श करें |

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top