websitehindi channel

बुलेट ट्रेन क्या है? Bullet Train के बारे में फुल जानकारी |

Bullet Train क्या है? बुलेट ट्रेन से संबंधित फुल जानकारी जानने के लिए वेबसाइटहिंदी का पूरा पोस्ट पढ़िए क्यूंकि इस आर्टिकल में Bullet Trains के बारे में बताया गया है |

दुनियां भर में Bullet Train का नाम प्रचलित है लेकिन जापान जैसे कंट्री की वजह से दुनियां भर में बुलेट ट्रेन पॉपुलर हो गया | जापान जैसे देश में बुलेट ट्रेन एक शहर से दुसरे शहर को जोड़ के रखा है |

bullet-train-kya-hai
bullet train

अब भारत में भी ट्रैक लगना शुरू हो गयी है क्यूंकि इससे संबंधित जापान से भी मदद मिलने लगा है | देश में बुलेट Trains लगाने का मकसद यही होता है की यह ट्रेन हाई स्पीड से चलती है | माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कहे अनुसार 15 अगस्त 2022 तक बुलेट ट्रेन चलने की उम्मीद है |

Bullet Train क्या है?

यह ट्रेन बहुत तेज गति से चलने वाली ट्रेन है | इस ट्रेन की रफतार बहुत तेज होती है इसीलिए High Speed Rail तथा जापान में Shinkansen नाम से भी जाना जाता है | इनका स्पीड गोली के स्पीड जैसा तेज होता है इसलिए इसे Bullet Train के नाम से सभी जानते है | (इसे भी पढ़ें #Metoo का मतलब क्या होता है? मीटू (#Me-Too) का आंदोलन कब शुरू हुआ |)

बुलेट ट्रेन के लिए अलग से ट्रैक का निर्माण किया जाता है ताकि चलते समय कोई रुकावट पैदा न हो सके | जब पटरी पर बुलेट ट्रेन चलती है तो लगभग 320 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से दौड़ती है |

अब तो अपना देश भारत में भी दो वर्षो के अंदर बहुत सारे बुलेट ट्रेन चलवाने की बात कही गयी है जिसके वजह से सामान्य ट्रेन से ज्यादा स्पीड में चलने का रास्ता साफ दिखाई दे रहा है |

बुलेट ट्रेन का इतिहास : History Of Bullet Train

हाई-स्पीड रेल पर भारत के बहुत कम ही लोग चढ़े होंगे लेकिन जापान जैसी देश में पिछले 45-50 वर्षो से हाई-स्पीड रेल (Shinkansen) चलायी जा रही है | पहली बार हाई-स्पीड रेल को 1964 में 210 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चलना शुरू हुई | (इसे भी पढ़ें Wi Fi क्या है? वाईफाई नेटवर्क का इस्तेमाल कैसे करें?)

इसके बाद  ML-500R मैग्लेव पहली बार 500 किमी प्रति घंटे की गति से 1979 में चलायी गयी | इसके अलावा शिनकानसेन की गति 2015 में Japanese LO Maglev ने 603 किमी तक चलाकर रिकॉर्ड बनाया |

बुलेट ट्रेन की शुरुआत कब हुई? : When Did The Bullet Train Start?

सबसे पहले जापान देश में 1927 में बुलेट ट्रेन की शुरुआत हुई थी | इसलिए आप कह सकते है की जापान ऐसा पहला देश बना जहाँ बुलेट ट्रेन चलायी गयी |

जानिए दुनिया की सबसे तेज गति वाली ट्रेन कौनसी है?

चीन देश में शंघाई मैग्लेव नाम की बुलेट ट्रेन मौजूद है जिसको 268 किलोमीटर प्रति घंटा से चलती है | इस ट्रेन को सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन कहा जाता है | इसके अलावा जापान में 400 किलोमीटर प्रतिघंटा के रफतार से बुलेट ट्रेन का निर्माण हुआ है |

बुलेट ट्रेन का आविष्कार : The Invention Of The Bullet Train

Japanese Engineer द्वारा बुलेट ट्रेन का आविष्कार Hideo Shima (Shima Hideo,20 May 1901–18 March 1998) ने किया था |  जापानी इंजीनियर और पहली बुलेट ट्रेन के निर्माण के पीछे प्रेरक शक्ति थी। (इसे भी पढ़ें SP Officer कैसे बने? एसपी ऑफिसर बनने के लिए योग्यता, सैलरी और चयन प्रक्रिया)

 

बुलेट ट्रेन के फायदे : Advantages Of Bullet Trains

देश में बुलेट ट्रेन होने के बहुत सारे फायदे है जो उसमें से मुख्य फायदे इस प्रकार है | (इसे भी पढ़ें रात में स्मार्टफोन इस्तेमाल करने के फायदे और नुकसान |)

विमान के अलावा बुलेट ट्रेन में 800-1000 से अधिक यात्रियों को बैठने की जगह होती है | इसलिए यह कह सकते है की नजदीकी शहर में अधिक यात्री के लिए बुलेट ट्रेन बढियां आप्शन है |

बुलेट ट्रेन से शोर प्रदुषण बहुत कम होता है | अगर आप प्लेटफार्म पर अधिक शोर से परेशान हो रहे होते है तो आपको बता दू Bullet Train अधिक शोरगुल नहीं करता है |

अगर इंधन की बचत की बात की जाये तो एरोप्लेन में अधिक महंगे इंधन की जरुरत होती है और कम यात्री भी होते है | वही बुलेट ट्रेन में कम धन खर्च होता है और अधिक यात्रियों को बैठने की जगह होती है |

बुलेट ट्रेन में समय की खास ख्याल रखा जाता है | सामान्य ट्रेनों के मुकाबले बुलेट ट्रेन मिनटों के अन्तराल पर मौजूद होती है |

बुलेट ट्रेन से जल्दी किसी भी शहर में जा-आ सकते है | अन्य वाहनों की तुलना में बुलेट ट्रेन से जल्दी सफ़र किया जा सकता है |

निष्कर्ष (Conclusion)

इस आर्टिकल में Bullet Train क्या है? बुलेट ट्रेन से संबंधित फुल जानकारी शेयर किया गया है | पोस्ट में यह भी बताया गया है की बुलेट ट्रेन चलाने के फायदे क्या है?

मुझे उम्मीद है यह आर्टिकल Bullet Train क्या होता है? आपको पसंद आयी होगी | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आये तो कमेंट करें और सोशल मीडिया साईट पर शेयर भी करें | आगर आपके पास कोई सवाल हो तो कमेंट बॉक्स में बताये |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top