दिवाली कैसे मनाये? और क्यों –

Last Updated on 7 months by websitehindi

दिवाली कैसे मनाये? – Diwali Kaise Manaye : क्या आपको पता है (दिवाली) दीपावली क्यों मनाया जाता है और कैसे ? दिवाली ऐसा पर्व है जिसको मानाने से घर में खुशियां और लक्ष्मी का वास होता है |

दीपावली रौशनी और खुशियों का त्योहार है जिसके वजह से बच्चे से बूढ़े तक सभी मिलजुलकर खुशियां मनाते है | इस दिन किसी -भी धर्म को दिवाली मानाने पर पाबन्दी नहीं होती है | दशहरा समाप्त होते ही लोग घर-दूकान सफाई करने में लग जाते है |

diwali-kaise-manaye-in-hindi
दीपावली

दिवाली के दिन अमावस्या की रात होती है | इस दिन चारों ओर दीपो से सजाया जाता है | इस पर्व के दिन लक्ष्मी जी का वास होता है | दीपावली के दिन ढेर सारे मिठाइयाँ बनाने के साथ बहुत सारे पटाखे फोड़े जाते है |

चारो ओर जगमगाते दीप और मोमबतियां से सजाया जाता है और हम सभी अपने रिश्तेदारों को बहुत सारे भेंट देते है | आइये जानते है साफ़ – सफाई करने के बाद दीपावली के दिन वाली कैसे मनाये? Diwali Kaise Manaye In Hindi.

दीपावली क्यों मनाया जाता है? Diwali Kyu Manaya Jata Hai In Hindi

 

दिवाली के दिन राजा दशरथ पुत्र श्रीराम का आगमन 14 वर्ष बनवास में रहने के बाद हुआ था | पापी रावण का अंत करने के बाद श्रीराम और लक्ष्मण जी सीता मईया के साथ अयोध्या आये थे | रावण का अंत और श्रीराम को अयोध्या आने पर वहां के लोगो द्वारा (पुरे राज्य में) बहुत सारे दीप जलाकर दिवाली मनाया मनायी गयी | तब से हर साल दशहरा के बाद कार्तिक अमावस्या के दिन दीपावली मनाया जाता है |

दीपावली कैसे मनाये?

ऊपर के पैराग्राफ में बताया हूँ दिवाली क्यों मनाया जाता है लेकिन अब जब बात आ जाये की दिवाली कैसे मनाया जाता है तो आपको बता दूं सही से दीपावली मानाने का आनंद ही कुछ और होता है |

दीपावली आने के हप्ते दिन पहले से साफ-सफाई की तैयारियां शुरू हो जाता है | घर, दुकान, ऑफिस, सड़क के सफाई करते है ताकि कहीं भी गन्दगी न लगा रहे | साफ़ सफाई करते समय इस बात पर ध्यान देना होता है की कहीं भी कचड़ा न लगा रहे |  कचड़े को जहां -तहां नहीं फेकना चाहिए | कचड़ा को सुरक्षित कूड़ेदान में रखें या ऐसी जगह फेंके जहाँ कचड़ा रखा जाता हो |

दीपावली आने के पहले से बच्चों के लिए दीपावली घर बनाया जाता है | दीपावली घर बनाने के लिए कूट, लकड़ी के प्लाई, मिट्टी का उपयोग कर सकते है | इसके अलावा जरुरत के सामान उपयोग में ले सकते है | लोग तरह तरह के डिजाईन वाला घर बनाते है | इन सब चीजों को देखकर घर के बच्चे बहुत खुश होतें है |

दिवाली के एक दिन पहले घर के बाहर या घर के दीवारों पर तरह – तरह के रंगोली बनायीं जाती है | अगर आप बाजारू रंग का उपयोग नहीं करना चाहते है तो घर से बने रंगों का उपयोग कर सकते है | जैसे – हल्दी से पीला रंग यूज में लेना |

दिवाली के दिन घर , दुकान यानि की हर चीज को फूलों से सजा सकते है | (इसे भी पढ़िए ई श्रम कार्ड रजिस्ट्रेशन कैसे करें जानिए फुल जानकारी)

दीपावली के दिन बहुत सारे मिट्टी के दिए जलाये जाते है | आज के समय में लोग मोमबती का उपयोग करने लगे है लेकिन देखा जाये तो पर्यावरण के दृष्टि से दिए ही अच्छा होता है |  अगर आप घिउ का दिया जलाते है तो घर के आसपास का वातावरण शुद्ध होता है |

दिवाली के दिन बड़े -जवान सभी पटाखे फोड़ते है | इस दिन पटाखे फोड़ने में बहुत ही आनंद आता है | लेकिन पटाखे फोड़ते समय बच्चो पर खास कर के ध्यान देना चाहिए | इसके बाद दिवाली बहुत ही मनमोहक होता है |

दीपावली के दिन लक्ष्मी-गणेश का पूजा किया जाता है | इस दिन हर घर में लक्ष्मी गणेश का पूजा धूम धाम से किया जाता है | इसके अलावा दुकाने सजाकर कलश रखकर पूजा किया जाता है | अच्छे – अच्छे मिठाइयों के साथ लक्ष्मी गणेश का मूर्ति लाना शुभ होता है |

घर के सजाने के लिए अनेकों प्रकार के पतंगे , कलर पेपर, और मिट्टी के घोडा हाथी का खरीदारी करते है | इसके बाद घर के पूजा पाठ वाले जगह पर सजाकर खुशियां मनाया जाता है |

दिवाली के दिन पूजा कैसे करें – Laxmi Pujan Vidhi In Hindi

दिवाली के दिन पूजा करने से पहले घर के दरवाजे को सजाने के बाद दरवाजे के दोनों ओर शुभ-लाभ और स्वास्तिक को सिंदूर से बनाना चाहिए | इसके अलावा प्रिंटेड शुभ-लाभ को घर के दरवाजे पर लगा सकते है |

घर में लक्ष्मी गणेश जी का फोटो या प्रतिमा स्थापित करना चाहिए | यहाँ पर मिट्टी का छोटे – छोटे मूर्ति स्थापित कर सकते है | माँ के मूर्ति को सालों भर घर में रख सकते है | पूजा करते समय आरती गाने के अलावा माता को भोग लगाया जाता है | (इसे भी पढ़िए कंपनी शुरू कैसे करें? कंपनी के प्रकार , दस्तावेज और अन्य जानकारियां |)

दिवाली पूजा करने से पहले गरीब या ऐसी महिलाये को दान में कुछ दे सकते है | लक्ष्मी – गणेश का पूजा करने के बाद सभी को प्रसाद जरुर दे | याद रखिए इस पूजा में लक्ष्मी,गणेश, श्री यंत्र को शामिल कर सकते है |

पूजा में चन्दन, पुष्प, मिठाई शामिल कर सकते है | इसके अलावा पूजा करवाने के लिए पंडित बुलवाकर विधि से पूजन करा सकते है |

निष्कर्ष (Conclusion)

वेबसाइटहिंदी.कॉम के आर्टिकल में दिवाली कैसे मनाये? – Diwali Kaise Manaye के बारे में बताया गया है | इस पोस्ट में यह भी बताया गया है की दिवाली पूजन कैसे होती है | अगर आपको यह आर्टिकल पसंद है तो सोशल साईट (व्हाट्सऐप, फेसबुक) पर शेयर करें | आप हमारे Desivid Youtube Channel और Website Hindi Youtube चैनल को Subscribe कर सकते है |

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top