websitehindi channel

बच्चे आंखें खोलकर क्यों सोते हैं?

बच्चे आंखें खोलकर क्यों सोते हैं? क्या बच्चों कि आंखे खुली रहना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है? क्या बच्चे नींद में भी आंख खोल कर सोते हैं? इन सभी सवालों का जबाब वेबसाइटहिंदी के इस आर्टिकल में शेयर किया गया है |

आये तीन छोटे शिशु में कुछ ऐसे लक्षण देखने को मिलते हैं जिससे मां चिंतित हो जाती है | उसी में से एक है बच्चे आंखें खोलकर क्यों सोते हैं? क्या दुनियां के सभी बच्चे नींद में भी आंखे खोलकर सोते हैं?

बच्चे-आंखें-खोलकर
बच्चे आंखें खोलकर क्यों सोते हैं

तो आपको बता दू अधिकतर बचे की आंखे नींद में भी खुली रहती है | लेकिन इसमें किसी को परेशान होने की आवश्यकता नहीं है क्यूंकि यह बच्चे की आदत या आम समस्या हो सकती है | फिर भी कुछ ऐसी चीजे होती है जिसको अनदेखा करना गलत होगा |

बच्चे आंखें खोलकर क्यों सोते हैं? इसके मुख्य कारण

अनुवांशिकता : Genetics

नींद में भी बच्चे की आंखे खुली रहने का कारण अनुवांशिकता भी हो सकता है क्यूंकि अगर बच्चे के परिवार में कोई भी सदस्य ऑंखें खोलकर सोता है तो यह असर बच्चों में भी आ सकता है | (इसे भी पढ़ें होंठ में सूजन होने के कारण, लक्षण और घरेलु उपचार)

कभी – कभी परिवार के साथ बच्चों के पेरेंट्स की आदत पर ध्यान देना होता है क्यूंकि माता-पिता के भी गुण बच्चों में आ जाते हैं |

मेडिकल कारण : Medical Reasons

मेडिकल कारण से बच्चे खुली आंखे से सो सकते है पर यह बच्चे के स्थिति और डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही पता चल सकता है | कहा जाता है की बच्चों के चेहरे की नसे खराब होने की वजह से बच्चे नींद में भी आंखे खोलकर सोते हैं |

लेकिन क्या आपको लगता है की आपका बच्चा लगातार आंखे खोलकर सो रहा है, आपका बच्चे एक दिन रात में 15-16 घंटे नींद नहीं ले पाते है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें |

बच्चे की आँख खुली रहने के नुकसान

बच्चों को खुली आंख से सोना यह नार्मल है क्यूंकि डॉक्टर द्वारा बताया जाता है की अधिकतर बच्चे आंखे खोलकर सोते हैं | इसमें परेशान होने की आवश्यकता नहीं है | जैसे – जैसे बच्चे बड़े होते है वैसे ही उनके सोने के समय और तरीको में बदलाव होता है | (इसे भी पढ़ें Breastfeeding (स्तन पान) संबंधी आम समस्याएँ एवं उनका निवारण)

खुली आंखों से सोने वाली समस्या ठीक कैसे करें?

पहली बार माँ बनने वाली औरते बच्चे को खुली आंखों से सोते हुए देखती है तो परेशान हो सकती है | लेकिन किसी भी माँ को इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है क्यूंकि बच्चों में इस तरह के आदते आ जाती है | परन्तु कुछ तरीके इस्तेमाल कर नार्मल तरीका से बच्चे को सुलाया जा सकता है |

बच्चे को सुलाते समय उनके पलकों पर आराम से अंगुलियाँ फेरते रहें | यह तबतक करें जबतक आपका बच्चा सो न जाये | ऐसा करने से बच्चे आंख बंद कर सो जाते है | बच्चों की आराम की जरुरत होती है इसलिए अपने गोद में ही सुला सकती है | अगर आप बेड पर सुलाने की कोशिश कर रही है तो आसपास के खिलौना या तकिया साइड में कर दे |

बच्चे को सुलाते समय कमरे की लाइट ऑफ करें इसके साथ – साथ मखियां से बचाने के लिए मछरदानी का इस्तेमाल कर सकते है | इस तरह से आप अपने बच्चे को आसानी से सुला सकती है | (इसे भी पढ़ें जानिए समुन्द्र का पानी खारा क्यों होता है?)

डॉक्टर के पास कब जाये |

जैसा की आपको बताया गया है की जब शिशु अवस्था में बच्चा आंखे खोलकर सोता है तो यह नार्मल सी बात है. पर यही 19 महीने या 2 साल के उम्र तक बच्चे आंखे खोलकर सोये तो चिकित्सीय मदद लेना चाहिए |

आपको बता दू इस तरह की बहुत कम परेशानी आती है लेकिन इसे इग्नोर न करें क्यूंकि बच्चे को कंजेनिटल पीटोसिस की समस्या भी हो सकती है | इन सभी समस्या से बचने के लिए ऊपर बताये गए टिप्स को Follow कर सकते है |

Conclusion

वेबसाइटहिंदी के इस आर्टिकल में बच्चे आंखें खोलकर क्यों सोते हैं? के बारे में बताया गया है | पोस्ट में यह भी बताया गया है कि नींद में बच्चों की आंखे खुली रहने का घरेलु टिप्स क्या है?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top