websitehindi channel

Cracked Software In Hindi

Last Updated on 7 months by websitehindi

Cracked Software In Hindi: क्या आप जानते है क्रेक्ड़ सॉफ्टवेयर क्या होता है? वेबसाइटहिंदी.कॉम के पोस्ट में Crack किया हुआ एप्लीकेशन फ्री में डाउनलोड करने का तरीका भी बताया गया है |

जैसा की आप जानते है इन्टरनेट से हमे जरुरत के अनुसार सॉफ्टवेयर की जरुरत पड़ती है | महंगे सॉफ्टवेयर हर किसी को खरीदना मुस्किल होता है | अधिकतर यूजर चाहते है की उन्हें फ्री में सॉफ्टवेयर मिल सकें |

cracked-software-in-hindi

आप इस तरह भी समझ सकते है की किसी Paid सॉफ्टवेयर को फ्री में बिना इन्टरनेट के चुपके से यूज करना ही Cracked Software कहा जाता है | जिसके बाद आपके पसंद की प्रीमियम सॉफ्टवेयर फ्री में इन्टरनेट पर मिल भी जाता है |

Cracked Software क्या है?

किसी Paid सॉफ्टवेयर को डेवलपर द्वारा कुछ बदलाव कर इन्टरनेट पर फ्री में उपलब्ध करवा दिया जाता है जिसके बाद कोई भी व्यक्ति अनलिमिटेड यूज के लिए डाउनलोड करता है | इस तरह के सॉफ्टवेयर को Cracked Software कहते है | (इसे भी पढ़ें अधिक थकान क्यों होती है?)

इसमें आपको कोई चार्ज देने की जरुरत नहीं होती है | बिना शुल्क दिए डुप्लीकेट Key से सॉफ्टवेयर को एक्टिवेट कर दिया जाता है | जिसके बाद आप अपने Pc या मोबाइल में आसानी से इस्तेमाल कर सकते है | यह सॉफ्टवेयर लगभग हर डिवाइस के लिए इन्टरनेट पर मौजूद होता है |

Cracked Software Download कहाँ से करें?

Cracked सॉफ्टवेर डाउनलोड करने के लिए इन्टरनेट पर अनेको वेबसाइट है जहाँ से आप अपने लैपटॉप / कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते है |

इन्टरनेट पर महंगे सॉफ्टवेयर मौजूद है जिसको खरीदना मुस्किल होता है | इन्टरनेट पर तो अच्छे Quality के सॉफ्टवेयर मौजूद है लेकिन 90 % यूजर फ्री में डाउनलोड करना पसंद करते है | आइये जानते है क्रेक एप्लीकेशन डाउनलोड कैसे करें? (इसे भी पढ़ें Cyber Security क्या है? आज के समय में साइबर सिक्यूरिटी हमारे लिए क्यों जरुरी है!)

यहाँ पर हम अच्छे वेबसाइट का नाम बता रहें है जहाँ से आप सभी प्रकार के एप्लीकेशन प्राप्त कर पायेंगे | जैसे विडियो एडिटिंग, ऑडियो एडिटिंग, स्क्रीन रिकॉर्डिंग, ऑडियो रिकॉर्डिंग, माइक्रोसॉफ्ट विंडोज इत्यादि |

  • Com
  • Weebly.Com
  • In
  • Com
  • Com
  • Com

 

किसी भी सॉफ्टवेयर को खोजने के लिए ब्राउज़र में इन वेबसाइट के मदद से आसानी से ढूँढ सकते है |

उदाहरण के लिए : Icecreem Screen Recorder, Filmora जैसे सॉफ्टवेयर का हजारो रूपये भुगतान करना होता है | लेकिन बहुत सारे यूजर अन्य वेबसाइट से डाउनलोड कर लेते है |

क्रेक्ड़ सॉफ्टवेयर के फायदे हिंदी में |

जैसा की आप जानते फ्री का खाना सबको अच्छा लगता है जिसमें फायदा ही फायदा होता है | सबसे मुख्य लाभ यह मिलता है की वह सॉफ्टवेयर आपको फ्री में मिल जाता है | जिसके लिए आप वास्तविकता दाम नहीं चुकाते है | (इसे भी पढ़ें दुनियां के सबसे बड़ा ट्रेक्टर का नाम क्या है?)

क्रेक्ड़ सॉफ्टवेयर से भी उतना ही लाभ मिलता है जितना पैसे से भी खरीदारी करते है | मिला-जुला कर 90% Features का लाभ आसानी से उठा सकते है |

Cracked एप्लीकेशन को हर कोई यूज कर सकता है | इसे आप फ्री में डाउनलोड किये रहते है इसीलिए आपको फ्रेंड्स को शेयर करने में परेशानी नहीं होती है |

इस तरह के सॉफ्ट वेयर को डाउनलोड करना बहुत आसान होता है | इसे आप आसानी से फ्री में डाउनलोड कर सकते है |  यानि की क्रेक्ड़ सॉफ्टवेयर अनेको वेबसाइट पर मौजूद होता है |

Cracked Software के कुछ नुकसान

इस तरह के सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने पर फायदा के साथ कुछ कमियां भी होती है | जो इस प्रकार है | (इसे भी पढ़ें Twrp Recovery क्या है? टीडब्लूआरपी एंड्राइड डिवाइस के लिए किस प्रकार उपयोगी है |)

(1.) नए अपडेट

क्रेकड एप्लीकेशन यूज करने पर नए अपडेट नहीं मिलता है | जब आपके पास पहले से सॉफ्टवेयर मौजूद है उसी से कम चलाना पड़ता है | आपके द्वारा इनस्टॉल किये गए सॉफ्टवेयर का कनेक्शन Server से कट जाता है | यदि आप अपडेट करने की कोशिश करते है तो आपका सॉफ्टवेयर कोई काम का नहीं रहेगा |

(2.) Support नहीं मिलता

इस तरह के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने पर आपको कंपनी द्वारा कोई Support नहीं मिलता है | इसके लिए आपको खुद से ही दिमाग लगन पड़ता है |

(3.) जुर्म का शिकार होना पद सकता है

फ्री में Paid सॉफ्टवेयर को यूज करने से परेशानी भी उठाना पड़ सकता है क्यूंकि यह गैर कानूनी है | बिना कंपनी के इजाजत के आप किसी सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल नहीं कर सकते है | यह भारत ही नहीं बल्कि हर देशो में अपराध होता है (इसे भी पढ़ें Chingari App क्या है ? इसका उपयोग कैसे करें |)

(4.) यह सिक्योर नहीं होता

जरुरत के अनुसार हम सॉफ्टवेयर तो डाउनलोड कर लेते है लेकिन यह Secure नहीं होता है | क्यूंकि यह डेवलपर द्वारा Crack किया हुआ सॉफ्टवेयर होता है | ऐसी एप्लीकेशन आपको कभी भी धोखा दे सकती है |

Conclusion

“वेबसाइट हिंदी” के इस पोस्ट में क्रैकड एप्लीकेशन को डाउनलोड करने से लेकर फायदे और नुकसान के बारे में बताया गया है | जहाँ से आप आसानी से इस तरह के सॉफ्ट वेयर डाउनलोड कर सकते है |

लेकिन याद रखे इस तरह के सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने पर आपको बहुत बड़ा नुकसान भी हो सकता है | इसीलिए Cracked Software डाउनलोड व इनस्टॉल करने की कोशिश न करें | आपको यही प्रयास करना चाहिए की Premium सॉफ्टवेयर कंपनी से खरीदकर ही यूज करें |

वेबसाइटहिंदी.Com के पोस्ट में Cracked Software के बारे में केवल जानकारी शेयर किया गया है | अगर आप गलत साईट से किसी सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करते है और आपको कोई नुकसान होता है तो इसका जिम्मेवार आप स्वयं होंगे  | इसीलिए किसी भी Third Party वेबसाइट पर जाते समय सावधान भी रहें |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top