स्वर वर्णों की विशेषताएं रेखांकित कीजिए? Ignou Assignment

इस वेबसाइट पर इग्नू असाइनमेंट के सभी सवालों का उत्तर सरल भाषा में बतायी है है | इस पोस्ट के अंतर्गत स्वर वर्णों की विशेषताएं रेखांकित कीजिए? सवाल का उत्तर मिलेगा | यदि आप ऑनलाइन अनसर लिखना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें |

ignou assignment question answer
ignou assignment question answer

स्वर वर्णों की विशेषताएं रेखांकित कीजिए?

उत्तर: स्वर वर्णों की विशेषताएं

विवरण के आधार पर स्वर की विशेषताओं चिन्हित किया गया है |

उदाहरण के लिए: –

ये पूर्ण रूप से स्वतंत्र हैं।

इनका उच्चारण अवरोध रहित होता है।

इनके उच्चारण में अन्य वर्णो की सहायता आवश्यक नहीं |

इनका उच्चारण देर तक किया जा सकता है।

ये व्यंजन वर्णों के उच्चारण में सहायक होते हैं।

स्वर के उच्चारण में ध्वनि पूरे मुख विवर में गूंजती है।

जिस तरह स्वरों के लिए कहा गया कि उनका उच्चारण बाधा रहित होता है, इस तथ्य के विपरीत हमें व्यंजन के लिए सर्वप्रथम यह समझना चाहिए कि इनका उच्चारण बाधा  रहित नहीं होता। व्यंजन के उच्चारण में मुख से बाहर निकलने का य वायु के मार्ग में बाधा पड़ती है। दरअसल उच्चारण अवयवों अर्थात्‌ जिह्वा एवं निचले ओष्ठ द्वारा मुख के  विभिन्‍न उच्चारण स्थलों पर वायु के मार्ग को अवरूद्ध कर इनका उच्चारण सभव होता है।

मुख विवर के ऊपरी अंग जिनमें ऊपरी ओष्ठ, दंत एवं वर्त्स, तालु, मूर्धा, कोमल तालु, कंठ एवं स्वर यंत्र हैं। ये उच्चारण स्थल हैं जिन पर उच्चारण अवयव यानी जिहवा एवं निचले ओष्ठ अपने परिचालन द्वारा अवरोध उत्पन्न कर भीतर से आती प्राण वायु को रोकते हैं।

यह अवरोध क्षणांश का ही होता है और अवरोध के बाद झटके से हवा मुख विवर से बाहर निकलती है, जिससे उच्चारण संभव हो पाता है। इस कोटि में वर्ण माला के क से लेकर ह तक सभी वर्ण शामिल हैं। इनकी कुल संख्या 33 है। व्यंजन वर्णों के संबंध में एक अन्य महत्त्वपूर्ण तथ्य यह है कि इनका उच्चारण स्वतंत्र नहीं होता।

इनका उच्चारण स्वरों की सहायता से ही संभव हो पाता है। यही नहीं प्रत्येक व्यंजन के उच्चारण में ‘अ’ स्वर की ध्वनि अप्रत्यक्ष रूप से जुडी हुई होती है | अ स्वर के बिना इन्हें उच्चारित नहीं कीया जा सकता |

जैसे यदि हम क, ख, ग, घ, या किसी भी अन्य व्यंजन का उच्चारण करते है तो वह क+अ-क, ख+अ = ख, ग+अ = ग, घ+अ =घ यानी अ के संयोग से ही उच्चारित होता है |

स्वर रहित व्यंजन को हलन्त से प्रदर्शित किया जाता है। हलन्त के लिए मूल व्यंजन (अ स्वर रहित व्यंजन) के साथ उसके नीचे तिरछी रेखा (_) लगायी जाती है।

इस रेखा को हल्‌ कहा जाता है तथा:अ स्वर रहित व्यंजन जैसे क ख्‌, ग्‌, घ्‌ को हलन्त कहा जाता है। इस तरह हल्‌ लगाने का अभिप्राय है कि व्यंजन में स्वर वर्ण का पूरी तरह अभाव है। इस तरह के स्वररहित व्यंजन को आधा व्यंजन कहने का भी सामान्य चलन है।

उपरोक्त तथ्यों के आधार पर यदि व्यंजन वर्ण को परिभाषित करने का प्रयास किया जाए तो कहा जा सकता है कि व्यंजन उन वर्णों को कहा जाता है जिनका उच्चारण स्वतंत्र न होकर स्वर वर्णों पर आश्रित है एवं जिनके उच्चारण में वायु मुख में किसी न किसी रूप से बाधित होती है।

यह भी पढ़ें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top