आंखों का फ्लू (Eye Flu) – लक्षण, कारण, बचाव और उपचार

Last updated on October 14th, 2023 at 11:57 am

Eye Flu In Hindi: आंखें हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग होती हैं, और इन्हें स्वस्थ रखना हमारे लिए अत्यंत आवश्यक है। लेकिन कभी-कभी हम आंखों के संक्रमण का शिकार होते हैं, जिससे आंखों का फ्लू हो जाता है।

आंखों का फ्लू एक सामान्य और संक्रामक बीमारी है जो कि आंखों की पलकों और आंख की पुतली (कंजनी) में आम तौर पर होती है। इस लेख में, हम आपको आंखों के फ्लू के लक्षण, कारण, बचाव और उपचार के बारे में विस्तार से बताएँगे।

Eye Flu
Eye Flu

आंखों का फ्लू क्या है?

आंखों का फ्लू, या कोंजक्टिवाइटिस, आंख की संक्रमण है जो आंख की सफेद भाग और आंख की पुरानी फुंसी के चारों ओर होता है। यह वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण के कारण हो सकता है।

आंखों का फ्लू के लक्षण ((Symptoms Of Eye Flu In Hindi)

(1.) जलन और खराश

आंखों के फ्लू में व्यक्ति को आंखों में जलन और खराश (Burning In Eyes) का अनुभव हो सकता है। यह असहनीय हो सकता है और आंखें लाल और सूजन से भर जाती हैं।

(2.) आँखों से पानी आना

आंखों के फ्लू के समय, व्यक्ति को आंखों से पानी आने की समस्या हो सकती है, जिससे दिखाई देने में कमी होती है और दिनभर में धुंधला महसूस हो सकता है।

इस प्रकार के परेशानी किसी दवा का सेवन करने से भी होता है | अगर आपके आँखों में ज्यादा जलन हो रही है तो आप नजदीकी डॉक्टर से संपर्क कर सकते है |

Eye Flu के लक्षण

आंख फ्लू या कोंजक्टिवाइटिस एक आम आँखों की संक्रमण है जो आंख की सफेद भाग और आँख की पुरानी फुंसी के चारों ओर होता है। यह वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण के कारण हो सकता है। यहां कुछ आम आंख फ्लू के लक्षण हैं |

  • आंख फ्लू के मुख्य लक्षणों में शामिल आंखों की लालिमा और भूरी रंग का होना होता है।
  • आंख फ्लू में आंखों से पानी आना या रोना एक आम लक्षण है।
  • आंख फ्लू के कारण आंखों में जलन और खिचाव हो सकता है।
  • आंख फ्लू में आंखों के चारों ओर सूजन या फुलाव हो सकता है।
  • यह आंख फ्लू के एक और लक्षण हो सकता है जिसमें आंखों के नीचे पलकों पर छाले या कटाव बन सकते हैं।
  • आंख फ्लू के कारण दृष्टि में कमी भी हो सकती है।
  • यदि आपको इन लक्षणों में से कुछ भी अनुभव हो रहा है, तो आपको निकटतम चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए, ताकि उचित उपचार किया जा सके।

आंखों के फ्लू के कारण

(1.) आँखों में वायरल संक्रमण का होना

आंखों के फ्लू का प्रमुख कारण वायरल संक्रमण होता है, जो कि संक्रमणीय विषाणुओं के कारण होता है। यदि आपको इस तरह के परेशानी हो तो आप अपने आंखों में ड्राप लगाये | मार्किट में अनेको प्रकार के ड्राप मौजूद है जो सस्ते दामो में मिल जायेगा |

(2.) बैक्टीरियल संक्रमण – Eye Flu

कई बार आंखों के फ्लू का कारण बैक्टीरियल संक्रमण भी हो सकता है, जो कि आंख के पानी की गुदा से उत्पन्न होता है। इससे आँखों में लालिमा और आँखों से पानी आना आम बात होती है | यदि आपके आँखों से पानी आये या लाली दिखाई दे तो ड्राप का सेवन जरुर करें |

आंखों के फ्लू से बचाव करना

(1.) स्वच्छता और हाथ को बार – बार धोना

आंखों के फ्लू से बचने के लिए, आपको स्वच्छता का खास ख्याल रखना चाहिए और हर बार हाथ धोना अत्यंत महत्वपूर्ण है। जिस तरह से करोना वायरस आने पर बार – बार हांथो को साफ़ करना होता था उसी प्रकार हैंड वास  जरुर करें |

हैण्ड वाश करने से आपके हाथो की बैक्टीरिया और मैल ख़त्म हो जायेगा |

(2.) आंखों को अच्छे से साफ़ करना

आंखों को अच्छे से साफ करना भी आंखों के फ्लू से बचने में मदद कर सकता है। आंखों को गुलाबजल या फिर साफ पानी से धोएं और इसे सूखने दें।

यदि आपके घर में गुलाब जल नहीं है तो आप ठंडे पानी से आँखों को साफ कर सकते है | वहीँ आँखों में सुजन आ जाने से गर्म भात से सिकाई जरुर करें |

आंखों के फ्लू का उपचार करना

(1.) आंख बैठने की दवा लेना

आंखों के फ्लू के लक्षणों के इलाज के लिए, आप डॉक्टर से परामर्श करके आंख बैठने की दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं।

मेडिकल शॉप पर अनेको दवा मौजूद है जहाँ से आँखों में डालने वाला दवा खरीद सकते है |

(2.) आंखों की बंद पड़ी हुई नली का सेंकना

अगर आपकी आंखों में पानी आ रहा है और आंखें सूजी हुई हैं, तो आप आंखों की बंद पड़ी हुई नली का सेंकना भी कर सकते हैं |

इसके लिए गर्म बर्नर या भात कर इस्तेमाल कर सकते है | कहने का मतलब यह है की आँखों में आ रहे पानी को बंद करने के लिए सिकाई करना आवश्यक है |

आई फ्लू के घरेलु उपचार

आई फ्लू (इन्फ्लूएंजा) एक सामान्य वायरल संक्रमण है जो नाक, गला और फेफड़ों को प्रभावित करता है। यहां कुछ आई फ्लू के घरेलू उपचार दिए गए हैं जो राहत प्रदान कर सकते हैं |

  1. अदरक को पीसकर शहद मिलाकर चाटने से आराम मिलता है। अदरक और शहद के गुण शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं और आई फ्लू से लड़ने में मदद कर सकते हैं।
  2. तुलसी की पत्तियों का काढ़ा बनाकर पीने से साँस की नलियों के इंफेक्शन को कम किया जा सकता है।
  3. गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिलाकर गरारे करने से गले के दर्द और खांसी में राहत मिलती है।
  4. नींबू का रस, आम, गुआवा और अंगूर में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो आराम दिलाता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को सुधारता है।
  5. सोने से पहले गरम दूध पीने से गले के दर्द में राहत मिलती है और आराम से नींद आती है।
  6. आई फ्लू में पौष्टिक भोजन खाना बहुत महत्वपूर्ण है। फल, सब्जियां, दालें, अनाज, और हरी पत्तियों का उपयोग करें।

ध्यान दें कि यदि आपको गंभीर लक्षण हों, तो चिकित्सक से सलाह लेना जरूरी है। घरेलू उपाय सिर्फ राहत प्रदान कर सकते हैं, लेकिन यह बीमारी का इलाज नहीं कर सकते। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और बीमारी से बचने के लिए अपने पास्तविक रहें।

निष्कर्ष

आंखों में जलन, खराश और पानी आने के लक्षणों के साथ आंखों का फ्लू एक सामान्य संक्रामक बीमारी है। यह वायरस या बैक्टीरिया से हो सकता है। आंखों को साफ रखना और स्वच्छ रहना इस संक्रामक बीमारी से बचने में मदद कर सकते हैं।

आंखों में फ्लू के लक्षण दिखाई देने पर आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए और उनके निर्देशानुसार उपचार करना चाहिए।

Faqs (Eye Flu)

(Q1.) क्या आंखों का फ्लू आम बीमारी है?

हां, आंखों का फ्लू एक आम संक्रामक बीमारी है जो आंखों की पलकों और कंजनी में होती है।

(Q2.) आंखों के फ्लू से बचने के लिए आपातकालीन उपाय हैं क्या?

आंखों के फ्लू से बचने के लिए स्वच्छता का ख्याल रखना और हर बार हाथ धोना आवश्यक है।

(Q3.) क्या आंखों के फ्लू को बैक्टीरियल इंफेक्शन से भी जोड़ा जा सकता है?

हां, आंखों के फ्लू का कारण बैक्टीरियल संक्रमण भी हो सकता है।

(Q4.) क्या आंखों के फ्लू के लक्षणों को अनदेखा किया जा सकता है?

नहीं, यदि आपको आंखों के फ्लू के लक्षण दिखाई देते हैं, तो आपको उपचार के लिए डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

(Q5.) आंखों के फ्लू के इलाज के लिए किसी विशेषज्ञ की सलाह जरूरी है?

हां, यदि आपको आंखों के फ्लू के लक्षण होते हैं, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए और उनके निर्देशानुसार इलाज करना चाहिए।

यह भी पढ़ें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top