dled course 506 assignment

Dled course 506 Assignment 2 Queation 1 with Answer

Dled course 506 Assignment 2 Queation 1 with Answer  चिंतन कौशल क्या हैं ? बच्चे में चिंतन कौशलों के विकास हेतु परिवार , समाज तथा शिक्षको की भूमिका की चर्चा कीजिए |
वेबसाइट हिंदी में आप सभी का स्वागत हैं | इस पोस्ट में Dled course 506 Assignment 2    के पहले प्रश्न का उत्तर लेकर आया हूँ जिसे आपको हेल्पफुल हो सकती  |
इस प्रश्न का उत्तर स्वयं के सोंच और ज्ञान के आधार पर लिखा हूँ अगर आपको थोडा सा भी मिस्टेक लगे तो सुधार या बदलाव कर सकते हैं |
506 असाइनमेंट 1 के 2 प्रश्न के उत्तर

Dled course 506 Assignment 2 Queation 1 with Answer

dled course 506 assignment

Q. 1) चिंतन कौशल क्या हैं ? बच्चे में चिंतन कौशलों के विकास हेतु परिवार , समाज तथा शिक्षको की भूमिका की चर्चा कीजिए |
उत्तर :-  चिंतन कौशल वे मानसिक प्रक्रियाएं है जिन्हें हम किसी अनुभव का अर्थ निकालने के लिए प्रयोग करते हैं | यह निश्चित उद्देश्यों को प्राप्त करने के प्रति सजग तरीके के सोचने के मानव छमता को दर्शाता हैं | इस तरह की प्रक्रियाओं में शामिल हैं | याद रखना , प्रश्न पूछना , आव्धार्नाएँ बनाना , योजना बनाना , तर्क करना , कल्पना करना , समस्या को सुलझाना , निर्णय लेना , फैसले करना , शब्दों को विचारों में बदलना आदि | चिंतन कौशल सोंचने की एक व्यवहारिक क्षमता हैं | जिसे कुछ हद तक प्रभावी या कुशल कहा जाता हैं | ये बुद्धिमान व्यवहार की आदतें हैं जिन्हें अभ्यास द्वारा सीखा जाता हैं | उदाहरण के लिए अभ्यास द्वारा बच्चे कारण बताने में या प्रश्न पूछने में अच्छे हो सकते हैं |
कोई शोधकर्ताओं ने मानव चिंतन में महत्वपूर्ण कौशलो को पहचानने का प्रयास किया हैं और इनमे से सबसे प्रसिद्द ब्लूम का वर्गीकरण हैं | ज्ञान , समझ व प्रयोग निम्न स्तर के चिंतन कौशल है जबकि विश्लेषण , संश्लेषण और मूल्यांकन उच्च चिंतन कौशल हैं |

   – बच्चे में चिंतन कौशल विकास के लिए परिवार , समाज और शिक्षक की भूमिका

चिंतन कौशल हमारे अनुभव से सीखने और बुद्धि का प्रयोग करने के लिए सक्षम बनाते हैं |
बच्चे परिवार में ही रहकर परिवारिक अनुभव को समझते हैं जब बच्चे विद्यालय जाते है तो ज्ञान होने के लिए समाज और एक शिक्षक की आवश्यकता होती हैं |
बच्चों में चिंतन कौशल विकसित करने का एक सबसे असान व सरल तरीका हैं | जब शिक्षक और माता पिता ऐसे प्रश्न पूछना सीख जाते हैं | तो बच्चे की चिंतन प्रक्रियाएं उतेजित हो जाती हैं | शिक्षक के द्वारा बच्चे से प्रश्न पूछना एक ऐसा उपागम है जो दूसरो को शिक्षा ग्रहण करने में , समझ का परीक्षण ग्रहण  करने में , रूचि विकसित करने में और व्यक्ति के कुछ चीजों को समझने की छमता का मूल्यांकन करने के लिए प्रेरित करता ह अं |
आजकल नौकरी बाजार में और समाज में ऐसे लोगो की खोज है जो समझ सके , फैसला कर सके , नए ज्ञान और प्रक्रियाओं को भाग ले सके | हमारे समाज में ऐसे लोगो की आवश्यकता है | जो विभिन्न स्रोतों से सुचना दे सके | शिक्षक ही उनकी सच्चाई का पता लगाते है और उसे प्रयोग करके सही सुचना देते हैं | ऐसे ही शिक्षक कार्क्रम विकसित करते है जो सभी को प्रभावी विचारक बना सकें |
चिंतन कौशल की गुणवता बढ़ाना सीधे – सीधे बेहतर अधिगम से संबंधित हैं | और इसी से समाज की बेहतरी की अवसर बढ़ेंगे | माइक पलिथम के अनुसार हमारी विकासशील दुनिया में सोंचने की क्षमता किन्ही निश्चित कौशलो या ज्ञान से अधिक वांछनीय होती जा रही हैं | बच्चे की समस्या सुलझाने वाले और निर्णय लेने वाले , और नवीन अविष्कारको की जरुरत हैं  और शिक्षक को  चाहिए की सिखने और सिखाने में नए ढंग का प्रयोग करें | समाज को बच्चे के भाभिश्य के लिए तैयार रहना चाहिए | जैसे – जैसे व्यक्ति अधिक कुशल हो  जाता है सोंचने वाला केवल सुचना गरहन करने से सुचना पर विचार करने वाला बन जाता हैं |
परिवार और शिक्षक बच्चे पर हमेश ही विचार करते रहते हैं | इसका तात्पर्य यह है की शुरू के वर्षो में जब मस्तिक का विकास हो रहा है , चिंतन कौशल विकसित करने के उपाय विकसित करने के तरीके और अधिगम कौशलो में बढती हुई रूचि यह पता लगने का परिणाम हैं |
—————————*—————————–*————————–
Dled course 506 Assignment 2 Queation 1 with Answer

1 thought on “Dled course 506 Assignment 2 Queation 1 with Answer”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.