deled course 509 assignment

Deled course 509 Assignment 2 Question With Answer

Last Updated on 3 years by websitehindi

Deled course 509 Assignment 2 Question With Answer – सामाजिक – सांस्कृतिक विविधिता ( धार्मिक और भाषायी सहित ) के आधार पर अपने शिक्षर्थीं का फाइल तैयार कीजिए | तथा उनके लिए अधिगम गतिविधियाँ बनाइए |
इस पोस्ट में Deled course 509 Assignment 2 के दुसरे प्रश्न का उत्तर लाया हूँ इसे आप असाइनमेंट कॉपी में लिख सकतें हैं | इस क्वेश्चन के उत्तर  स्वयं के ज्ञान और सोंच    के आधार पर लिखा हूँ   अगर आपको कोई गलतियाँ दिखें तो सुधार या बदलाव कर सकतें हैं |

Deled course 509 Assignment 2 Question With Answer

Deled course 509 Assignment 2 के दुसरे प्रश्न का उत्तर |

Q. 2) सामाजिक – सांस्कृतिक विविधिता ( धार्मिक और भाषायी सहित ) के आधार पर अपने शिक्षर्थीं का फाइल तैयार कीजिए | तथा उनके लिए अधिगम गतिविधियाँ बनाइए |
उत्तर :- भारत अपने जैविक एवं सांस्कृतिक विविधिताओं का एक अविश्वसनीय देश है | नृजातीय उत्पति , धर्म और भाषाएँ सांस्कृतिक विविधता का मुख्य स्तोत्र हैं | इस देश में ४६३५ चिन्हित समुदाय हैं | जिनमे से अधिकांश के अपने अद्भुत , पहनावे , भाषाएँ , पूजा का विधियाँ , व्यवसाय , भोजन की आदतें और गोत्र हैं | कुछ अन्य भिन्न देशो जहाँ प्रभावी मानवीय संस्कृति अन्य संस्कृतियों को निकल देती हैं | किन्तु भारत की प्रकृति विविधताओं को प्रेषित करने की हैं | इसके बावजूद इनके विभिन्न पहचानो को बनाए रखना | उनकी जातियों , वर्गो और समुदायों का एक क्षेत्र में अन्य खंडो की जनसँख्या के साथ एक जैविक जुड़ाव हैं |
भारत में समुदायों के बिछ एक सतत अंत: क्रिया हैं और उनहोने विशेष रूप से संसाधनों , विशेषताओं और स्थान को साझा कर सांस्कृतिक जुदाओं को संरक्षित रखा हैं | ये प्रवृतियाँ सचमुच में भारत की मिस्र पत्रिक और सांस्कृतिक एकता को एक आकार प्रदान करती हैं | शोध प्रगट करता हैं की लोक प्रिय सांस्कृतिक विशेषताएँ जैसे – भोजन , आदतें , शादी के तरीके , सामाजिक रीतियाँ , सामाजिक संगठन , अर्थ व्यवस्था और व्यवसाय सीमओं को दूर कर देती हैं | हिन्दू 96.77 % विशेषताओं को मुस्लिमों के साथ , 91.19 % बुधो के साथ , 89.99 % सिखों के साथ और 77.46 % जैनों के साथ साझा करते हैं |

 

जैन 81.34 % विशेषताएँ बुधो के साथ साझा करते हैं | अनुसूचित जनजातियाँ 96.61 % विशेषताएँ अन्य पिछड़ा वर्ग के साथ , 95.62% मुस्लिमो के साथ , 91.69 % बुधो के साथ , 91.29 % अनुसूचित जातियों के साथ , 88.20 % सीखो के साथ साझा करती हैं | अंतत : इस पर बल दिया जा सकता हैं की हमारी संस्कृति जो प्राय: एक धुरवीय पहचान प्रदान करती हैं एक बहुयादी संस्कृति हैं | हमने प्रत्येक को विशेषत: प्रत्येक क्षेत्र में गंभीरता से प्रभावित किया हैं |

धार्मिक विविधता :-

भारत की जनसँख्या की धार्मिक विविधता के लक्षण सदियों से सुनिश्चित किए जा चुके हैं | संभवत: पृथ्वी के किसी क्षेत्र की अपेक्षा भारत में अधिक धार्मिक विविधता हैं | यह हिन्दुवाद , बौध्वाद , जैनवाद और सिखवाद का जन्म स्थान हैं | यह विश्व के कुछ स्थानों में हैं | जहाँ पारसी लोग रहते हैं | जबकि भारत हिन्दुवाद , बौध्वाद , जैनवाद और सिखवाद का उद्गम स्थल हैं | इस्लाम का भी एक लम्बा आसितत्व हैं | भारत में यहूदी धर्म , इसी और बहाई धर्म के अनुयायी भी है | भारत का कोई औपचारिक राज्य धर्म नही हैं | किन्तु यह भारतीय के दैनिक जीवन में अपने उतासवो , सयोहारो , तीर्थ स्थानों , परिवारिक धार्मिक परम्पराओं के माध्यम से केन्द्रित भूमिका निभाता हैं | पशिचम की अपेक्षा भारत में वस्तुत : समस्त जनसँख्या द्वारा धर्म को अधिक गंभीरता से लिया जाता हैं | जनसँख्या 2001 के अनुसार भारत के 81 % लोग हिन्दू थे | शेष को छोड़कर जो अन्य धर्मो से जुड़े हैं | जम्मू और कश्मीर को छोड़कर सभी प्रमुख राज्यों में हिन्दू बहुसंख्यक हैं | राष्ट्रिय स्तर पर मुसलमान अन्य सभी धार्मिक समूहों को एक साथ जोड़कर संख्या में सबसे अधिक बड़े धार्मिक समूह हैं |

भाषाई विविधता :-

भाषा जनसँख्या का एक महत्वपूर्ण विशेषता हैं | भारत जैसे बहुभाषी और बहुजातीय देश में इसकी बहुत अधिक सार्थकता और अभियान हैं | भाषा विविधता का एक महत्वपूर्ण श्रोत हैं | इस देश में 309 भाषाएँ और 25 तिथियाँ प्रयोग में हैं | ये भाषाएँ साथ – ही साथ लिपियाँ विविध भाषाई परिवारों से उतपन्न हुई हैं | भारतीय आर्य भाषा तिब्बती , वर्मन , भारोपीय , हजारो से पृथक कम से कम 65 % समुदाय द्वि भाषाएँ हैं | अधिकांश जनसँख्या समुदाय बहुभाषी हैं | बहुत सी मत्रिभाषाएं सांस्कृतिक अभिव्यक्ति और विविधता के संरक्षण में महत्वपूर्ण उपकरण हैं |

 

अधिगम गतिविधियाँ :- 

विद्यालय में सांस्कृतिक आधार पर प्रोफाइल तैयार करने के अनुसार इस प्रकार अधिगम करवाई जा सकती हैं |
  1. विद्यालय में जितने कमजोर वर्ग के विद्यार्थी पढ़ते है इनको नि: शुल्क पढाई की सामग्री उपलब्ध करवानी चाहिए |
  2. सभी बच्चे को समूहों में बटकर सहयोग देना होगा |
  3. विद्यालय के बच्चे के द्वारा विद्यालय कार्य में सहभागिता सुनिश्चित करना चाहिए |
  4. विद्यालय में हिन्दू और मुस्लिम बच्चे पढ़ते है इसीलिए हिंदी शिक्षक के साथ साथ उर्दू शिक्षक का होना आवश्यक हैं |
——————————–*—————————–*——————————
Deled course 509 Assignment 2 Question With Answer

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top