deled course 506 assignment answer

Deled course 506 Assignment 3 Answer 1000 words

Deled course 506 Assignment  Answer 1000 words अपने पड़ोस के दो विद्यालय का दौरा कीजिए | समावेशी विधालय के संदर्भ में सरकार द्वारा निर्धारित मानदंडो के द्वारा सुनिशिचतता अवलोकन के आधार एक प्रतिवेदन तैयार कीजिए | निष्कर्ष निकालिए तथा सुधार हेतु सुझाव प्रस्तुत कीजिए |
इस पोस्ट में मै  Deled course 506 Assignment  Answer को लगभग 1000 शब्दों से अधिक लेकर    आया हूँ जो आपके लिए हेल्पफुल हो सकता  हैं |
इस लेख के उत्तर मैं उत्तर को स्वयं ज्ञान और समझ के आधार पर लिखा हूँ अगर आपको कोई भी गलतियाँ दिखाई दे तो आप सुधार या बदलाव कर सकतें हैं       |

Deled course 506 Assignment  Answer 1000 words

Q. 1) अपने पड़ोस के दो विद्यालय का दौरा कीजिए | समावेशी विधालय के संदर्भ में सरकार द्वारा निर्धारित मानदंडो के द्वारा सुनिशिचतता अवलोकन के आधार एक प्रतिवेदन तैयार कीजिए | निष्कर्ष निकालिए तथा सुधार हेतु सुझाव प्रस्तुत कीजिए |
उत्तर:- समावेशी विधालय के संदर्भ में सरकार द्वारा निर्धारित मानदंडो के द्वारा सुनिशिचतता अवलोकन के आधार दो विद्यालय का दौरा किया जो इस प्रकार हैं |
  • प्राथमिक मध्य विद्यालय बालियाँ कोठी
  • मध्य विद्यालय इतिम्हा

समावेशी शिक्षा के आधार पर प्रतिवेदन :- ——

शिक्षा हर बच्चे का अधिकार हैं | समाज को मानवता के प्रगति के लिए विभिन्न लोगो की आवश्यकता होती हैं |  राष्ट्रिय शिक्षा निति यह सपष्ट रूप से कह दिया है की विद्यालय में सभी बालको की शिक्षा एक साथ होनी चाहिए कभी भी शरीरिक रूप से कमजोर बच्चो को अलग नहीं किया जा सकता हैं | किसी भी हालत में कमजोर , अपांग , और अन्य असहाय बालको की शिक्षा सामान्य बच्चे के साथ होनी चाहिए |
सभी बच्चे को इकठ्ठे सिखने की आवश्यकता हैं | कोई भी अधिगम क्षमता , सामाजिक , आर्थिक सांस्कृतिक और परिवारिक पृष्ठभूमि के कारण बच्चो में भेदभाव नहीं कर सकता | समावेशी शिक्षा विभिन्न तरीको से बच्चों के विकास में मदद करती हैं | विशिष्ट चुनौतियों वाले शिक्षार्थी शरीरिक , संज्ञात्मक और शारीरिक विकास में अच्छा करते हैं | कोठारी आयोग ने सम्निवत शिक्षा कि सिफारिश की हैं | सभी विशिष्ट बालको की शिक्षा में शिक्षा को मुखधरा में सम्लित करने की परिणाम स्वरुप विशेष शिक्षा का विकास हुआ हैं |
प्रत्येक बच्चे के स्वास्थ्य ख़ुशी , उपलब्धि , योगदान , सुरक्षा और सफलता की चिंता होती हैं | नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा अधिनियम (आर टी आई अधिनियम  २००९ ) इस लक्ष के प्राप्ति के उठाये गए कदमो में से एक कदम हैं | इस विकास के चलते विशेष शिक्षा पृथक्कीकरण ये समावेशी शिक्षा की ओर अगरसर हुई हैं |
हमारी शिक्षा प्रणाली प्रत्येक बच्चे को इस्तम विकास के लिए बराबर अवसर प्रदान करने के लिए कहती हैं | समावेशी शिक्षा इस दृष्टि की कल्पना  करने के लिए एक मार्गदर्शक सिद्धांत के रूप में उभरी हैं |
Deled Course 506 Assignment 1 question 2 with Answer
दो विद्यालयों के दौरा करने के बाद समावेशी विद्यालयों में अवलोकन के आधार पर निम्नलिखित बाते जानने को मिली हैं |
  • इन दोनों विद्यालयों में भवन का अभाव है यहाँ पर बच्चे सुरक्षित नहीं हैं | इसमे चाहिए की घर का दरवाजा चौड़ा हो ताकि बच्चे द्वार से रिक्सा अन्दर प्रवेश कर सके |
  • इन दोनों विद्यालय में उपचार कक्ष नही हैं यहाँ पर दिव्यांग बच्चे नही रह सकते हैं इन कक्षा कक्ष का निर्माण विकलांगता के आधार पर होना चाहिए | ताकि समावेशी बच्चे इनका फायदा ले सकें |
  • इन स्कूल में विश्राम कक्ष होना चाहिए | ताकि दिब्यंग बच्चे आवश्यकता अनुसार विश्राम कर सकें | अगर भवन भी बने तो बच्चे के अनुकूल होना चाहिए |
  • इन दोनों विद्यालय में पुस्तकालय नही हैं जहाँ से  बच्चे मन पसंद पुस्तके पढ़ सकते हैं | कुछ गरीब दिब्यंग बच्चे पुस्तक के लिए तरसते हैं |
  • इस विद्यालय में कोई छात्रावास नहीं बना है जहाँ से बच्चे को कोई परेशानी का सामना करना न पड़े |
  • इन दोनों स्कूल में छात्र की छात्रावास की अभाव पाया गया | छात्रावास भी दिव्यांग बच्चे के अनुसार ही बनाया जाना चाहिए ताकि बच्चे को मदद मिल सके |
  • इन दोनों विद्यालय में काउंसलिंग कक्ष नही था जिससे बच्चे को काउंसलिंग किया जा सकें |

Deled course 506 Assignment  Answer 1000 words

सुधार हेतु सुझाव :————–

कक्षा में गुणवता लाने के लिए शिक्षक को अधिगम का समर्थन करने के लिए सामग्री की आवश्यकता होती है | यदि विभिन्न सामग्री का उपयोग किया जाए तो कोई भी बच्चा अधिगम प्रक्रिया में भाग ले सकता हैं |
हमारे आसपास का पर्यावरण अधिगम सामग्री से भरपूर है | जैसे , झाडिया पेंड , लताएँ आदि | आसपास के पौधों से असानी से समझाई जा सकती हैं | पोस्ट ऑफिस , बैंक या क्लिनिक में बच्चे को ले जाकर वहां कार्य कर रहे लोगो के बारे में पढाया जा सकता हैं |
सुचना और संचार प्रौधोगिकी विधुत अधिगम सामग्री को प्रयोग करने के असीमित विकल्प देता हैं | शिक्षक द्वारा बनाए गए अधिगम सामग्री शिक्षण में प्रयोग करने के लिए सबसे उत्तम हैं | बहुत से माता पिता अपने समान्य बालक और अपांग बालक में भेदभाव दिखाते हैं | अगर ऐसा माता पिता करते है तो भाई – बहन खुद इस तरह के दुसव्यव्हर करने लगते हैं |
जिस जगह में हम रहते हैं | उसे हर लिहाज से उपयुक्त होना चाहिए | यदि बच्चे को कक्षा में एक स्थान से दुसरे स्थान तक गति करने में तकलीफ होती हैं तो उसकी जगह में उसके अनुकूल बदलाव कर देना चाहिए | यदि बच्चा सीढिया नहीं चढ़ सकता है तो कक्षा को निचे कर देना चाहिए | यदि बच्चे को पहुचने में बहुत समय लगता है तो कक्षा – कक्ष मेन गेट के पास वाला ले लेना चाहिए | फर्नीचर की व्यवस्था ऐसी हो की बच्चो को गति करने में बाधा न हो | बैठने की व्यवस्था बच्चे के अनुकूल होनी चाहिए | श्रव्य संबंधी कमजोरी वाले बच्चे को अगली सीट पर बैठना चाहिए | जिस बच्चे को शिक्षक का अधिक ध्यान चाहिए वह शिक्षक के पहुँच के भीतर होनी चाहिए | जिस बच्चे को तेज रौशनी की समस्या हैं | उसके चेहरे पर सीधा प्रकाश नहीं पड़ना चाहिए |
कक्ष कक्ष के अन्दर व बहार शोर को नियंत्रण करना होगा इससे बच्चे का ध्यान असानी से विचलित हो जाता है | उस बच्चे को दरवाजे , खिड़की और बरामदा से दूर बैठना  चाहिए | फर्नीचर के निचे रबर लगा होने चाहिए ताकि वे हिलाने पर आवाज नहीं करें | जहाँ तक संभव हो प्राकृतिक प्रकास व हवा का उपयोग करना चाहिए | सबसे महतवपूर्ण वातावरण को स्वच्छ रखना चाहिए | कक्षा में चार्ट व सुन्दर चीज अच्छे से लगानी चाहिए  | कक्षा में स्वच्छता व अच्छी व्यवस्था अधिगम में बच्चों की सहायता करनी चाहिए |
assignemnt के सभी प्रश्नों का उत्तर
ऐसा बच्चा जो दृष्टि से कमजोर हो और लिखित सामग्री पढ़ न पता हो | वहां शिक्षक के मूल्यांकन में बड़े अक्षरों में लिखी सामग्री का प्रयोग करना चाहिए | कुछ बच्चे कोई भी मूल शिक्षिक क्षमता सिखने की क्षमता नहीं  रखते | परन्तु उनकी किसी और क्षेत्र में प्रतिभा होगी | यहाँ शिक्षक के बच्चे का आकलन करने के लिए क्षतिपूर्ति तकनीक का प्रयोग करना चाहिए | बच्चे का स्वयं देखरेख या व्यावसायिक कौशलो का आकलन कर लेना चाहिए |
अपांग या विकलांग बच्चो को इस बात से पूर्ण रूप से अवगत करा  देना चाहिए की उनकी समस्या दुर्लभ नहीं हैं | बल्कि अन्य माता – पिता को इसकी समस्या हैं | यह एक माना हुआ तथ्य है कि रहने के वातावरण में अभाव का संकलपना निर्माण पर सीधा प्रभाव पड़ता हैं | यह स्वाभाविक है की गरीब परिवारों से दिहाड़ी पर काम करने वाले को , झुग्गी झोपड़ी वाले व बेखर परिवारों के बच्चे अपने आर्थिक , सामाजिक व मनोवैज्ञानिक वातावरण में समस्याओं का सामना करते हैं |
अनेक माता – पिता जीवन की समस्याओं की प्रति धार्मिक विचार रखते हैं | उन्हें यह बताना चाहिए की प्रत्येक व्यक्ति भगवन का बालक हैं | इसलिए प्रत्येक का क्रताव्य बनता हैं | की वह उसका सामान्य करें |
——————————–*——————–*————————-
Deled course 506 Assignment 3 Answer 1000 words

7 thoughts on “Deled course 506 Assignment 3 Answer 1000 words”

  1. मोहन चंद्र जोशी

    सर नमस्कार। कृपया 507 ,508,तथा 509 के अस्साइन्मेंट भी भेज दें ।अंतिम pcp दि0 28अक्टूबर तक जमा करने हैं।

  2. sir mai 501,502,503 ka exam nahi de paya hu, kyoki exam ke samay mera mejor accident ho gaya tha. lekin maine 504,505 exam diya usme mai pass v ho gaya aour 506,507,508,509 ka exam fee v bhar diya. to kya main fir se 501,502,503 ka exam de paunga?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.